जिपर का अविष्कार किसने किया-Zipper kya hai

zipper

जिपर का अविष्कार किसने किया-Zipper kya hai

सन् 1890 तक लोग जूतों में भी बटन लगाते थे। इससे जूते को पहनने और उतारने में समय लगता था। 

वाइटकॉम्ब जुडसन नामक व्यक्ति को जूते पहनते समय बटन लगाना या फीते बाँधना बहुत बुरा लगता था। उसे क्लिप लगाना या हुक बंद करना भी समय की बरबादी लगता था। झुकने में उसकी पीठ दुखने लगती थी और अँगुलियाँ भी थक जाती थीं।

बटनों और फीतों से मुक्ति पाने के लिए उसने एक लॉकिंग सिस्टम बनाया। इसमें पतली धातु की दो चेन होती थीं। उन्हें जोड़कर जब उनपर स्लाइडर चलाया । जाता था तो वह बंद हो जाता था। 

पर यह अच्छी तरह नहीं चल पाता था। यह कई बार जाम हो जाता था और कई बार अपने आप भी खुल जाता था। जुडसन ने इस लॉकिंग सिस्टम को बड़े पैमाने पर बनाने के लिए मशीन भी तैयार कर ली थी; पर इसकी माँग नहीं बढ़ी। लोग बटन ही लगाते रहे। 

जुडसन थोड़ा निराश अवश्य हुआ, पर उसने हार नहीं मानी। सन् 1896 में जुडसन ने लेविस वाकर के साथ मिलकर काम करना प्रारंभ किया। वाकर ने जुडसन को सलाह दी कि जिपर सिर्फ जूतों के लिए ही नहीं, वरन् सभी चीजों, जैसे कपड़े आदि के लिए बनाया जाए। 

सन् 1910 में जुडसन ने नए जिपर तैयार किए, जिसका नाम भी रखा गया सी-क्यूरिटी। यह पुरुषों की पैंटों में भी इस्तेमाल होता था और महिलाओं की स्कर्टी में भी। इसकी कीमत .35 सेंट रखी गई। . 

धीरे-धीरे जुडसन का आविष्कार लोकप्रिय होता चला गया। इसका इस्तेमाल भी अनेक चीजों में होने लगा; पर अभी तक उसे जिपर के आविष्कारक के रूप में नहीं जाना जाता था।

एक दिन एक व्यवसायी जुडसन की फैक्टरी में आया और उसने उसके आविष्कार को ध्यान से देखा। उसने अनायास टिप्पणी की, ‘यही है आपका जिपर!’ जुडसन को ‘जिपर’ नाम खूब पसंद आया और तभी से जिपर नाम लोकप्रिय हो गया।

More from my site

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *