टूटी हड्डी कैसे जुड़ती है-Tuti haddi kaise judti hai

टूटी हड्डी कैसे जुड़ती है

टूटी हड्डी कैसे जुड़ती है?-Tuti haddi kaise judti hai

टूटी हड्डी कैसे जुड़ती है  दुर्घटनावश जब किसी व्यक्ति की हड्डी टूट जाती है, तो उस स्थान पर प्लास्टर की पट्टी चढ़ाई जाती है। क्या टूटी हुई हड्डी को प्लास्टर जोड़ देता है? हड्डी टूट जाने के बाद वह अंदर ही अंदर दुबारा कैसे जुड़ जाती है-आइए इसकी जानकारी हासिल करें।

दरअसल चोट लगने पर हड्डियां प्लास्टर से जुड़ जाती हैं, ऐसा नहीं है। टूटी हुई हड्डियां कई बार अपने स्थान से हट जाती है।उन्हें जुड़ने से पहले सही स्थिति में रखना आवश्यक होता है। इसी कारण प्लास्टर चढ़ा कर उस भाग को कस दिया जाता है, जिससे वहां की टूटी हुई हड्डी सही अवस्था में ही रहे, हिले-डुले नहीं। 

हड्डियां कैल्शियम की बनी होती हैं और उस भाग में बनने वाला कैल्शियम ही उन्हें फिर जोड़ने में सहायक होता है। प्लास्टर का काम तो उन्हें सही स्थान से जोड़े रखना, अर्थात स्थिरता देना होता है। 

आजकल तो हड्डियों को जोड़ने के लिए स्टील की रॉड (छड़) लगाकर भी पूर्ण स्थिरता प्रदान की जाती है, ताकि उनमें स्थित कैल्शियम से दोनों टूटे हिस्से शीघ्रता से आपस में जुड़ जाएं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

18 − 10 =