विचित्र घटना-सांसों में आग 

विचित्र घटना-सांसों में आग 

विचित्र घटना-सांसों में आग 

सन् 1882 में मिशिगन में एक ऐसे आदमी ने सबका ध्यान अपनी ओर खींच लिया, जो मुंह से सांस छोड़ता था तो उसके मुंह से निकलने वाली हवा आग पैदा करती थी। उस समय उसकी उम्र 24 साल थी और उसका नाम था ए. डब्ल्यू. अंडरवुड। उसकी इस विलक्षण बीमारी का पता सबसे पहले मिशिगन के डॉ. एल. सी. वुडमेन को लगा जब उसके पास अंडरवुड चिकित्सा सहायता मांगने के लिए आया। डॉ. वूडमेन ने अपने साथियों के साथ उसका परीक्षण किया और वे यह देख कर अवाक रह गए कि जब अंडरवुड ने अपने मुंह से छोड़ी सांस से आग पैदा करके दिखाई। 

विचित्र घटना-सांसों में आग 

11 सितम्बर, 1882 को मिशिगन मेडिकल न्यूज पत्रिका में डॉ. वुडमेन ने लिखा है कि उनके सामने अंडरवड ने जब एक रूमाल अपने मुंह पर रखा और उस सास छोड़ते वक्त जोर से रगड़ा तो रूमाल भक से जल उठा। हमने उसको निर्वस्त्र किया और उसके हाथ अच्छी तरह से धोए। उसके बाद भी उसने अपने मुंह के पास लाए कागज और कपड़े के टुकड़े को अपनी सांस से जलाकर दिखाया। उसने पेड़ों की सूखी पत्तियों के ढेर को भी अपनी सांस से जलाकर दिखाया। डॉ. वुडमेन ने सार्वजनिक तौर पर इस बात की पुष्टि की कि अंडरवुड कोई अद्वितीय करामात का धनी है और उसकी इस करामात में सच्चापन है।

डॉ. वुडमेन ने अंडरवुड का मुंह अच्छी तरह धोया और उसे कुछ रसायनों से साफ किया, उसके हाथों में सर्जन के काम में आने वाले दस्ताने पहनाए। लेकिन कोई फर्क नहीं पड़ा। अंडरवुड अपने मुंह से कपड़े की बनी चीजें आसानी से जलाता रहा। कई माह तक उसका परीक्षण किया गया लेकिन उसके बाद भी वैज्ञानिकों के पास इस बात का कोई जवाब नहीं था कि अंडरवुड मुंह की सांस से किस तरह कपड़े जला देता है। 

इतिहास में ऐसे और लोग भी हुए हैं जो अपनी इच्छा से आग लगा देते थे। इसी तरह का एक और मामला 1927 में तब सामने आया जब अमेरिका के तत्कालीन उपराष्ट्रपति चार्ल्स डेवास की मौजूदगी में टेनिस प्रांत मेमफेस के निवासी एक मोटर मैकेनिक ने उपराष्ट्रपति का रूमाल लिया और उसमें जोर से सांस छोड़ी तो वह रूमाल धू-धू कर जल उठा। उपराष्ट्रपति और वहां मौजूद लोगों ने अच्छी तरह जांच लिया कि यह सब सचमुच हुआ था, कोई जादू नहीं था। 

अक्टूबर, 1886 में बारह वर्षीय एक लड़के विली ब्रोह पर कैलिफोर्निया में आरोप लगाया गया कि वह निगाह डाल कर ही किसी चीज को जला देता है। स्कूल में उससे यह करके दिखाने को कहा गया और उसने सबके सामने पांच चीजों को एक-एक कर अपनी निगाह से जला कर दिखाया। इस आधार पर उसे स्कूल से निकाल दिया गया। उसके मां-बाप ने सोचा कि उस पर शैतान की आत्मा हावी हो गई है और इसी कारण उन्होंने उसे घर से भी निकाल दिया। बाद में उसका पता नहीं चला कि वह कहां गया। 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

9 + eight =