शिक्षाप्रद कहानियाँ- अपनी बुद्धि से सुलझाए विवाद

shikshaprad kahani,

अपनी बुद्धि से सुलझाए विवाद

दो दोस्त थे। सोहन और महेश। बचपन की मित्रता युवावस्था तक आते-आते और गहरी हो गई। दोनों ने मिलकर कपड़े का व्यापार शुरू किया। दोनों दोस्त पूरी मेहनत और लगन से व्यापार करने लगे। देखते ही देखते दोनों का साझा व्यापार खूब चल निकला। व्यापार से संबंधित निर्णय दोनों मिलकर लेते थे। कोई निर्णय ऐसा न रहा, जो दोनों में से किसी एक ने अकेले लिया हो। उनके सटीक निर्णय, आपसी प्यार व रजामंदी, मेहनत और लगन से उनका व्यापार दिन दोगुनी रात चौगुनी तरक्की करने लगा। उनकी इस तरक्की से शहर के अन्य कपड़ा व्यापारी उनसे ईर्ष्या करने लगे। 

वे दोनों मित्रों में फूट डालने का अवसर खोजने लगे, क्योंकि वे जानते थे कि अगर दोनों मित्रों के रिश्ते में दरार आ गई तो उनके व्यापार पर भी इसका गहरा असर पडेगा। एक बार  सोहन  को किसी काम के सिलसिले में एक दिन के लिए शहर से बाहर जाना पड़ा। परन्तु सोहन को तीन-चार दिन का वक्त लग गया। 

महेश ने व्यापार के सिलसिले में एक बड़ा सौदा करना था। उसने सोहन का तीन दिन तक इंतजार किया। फिर उसे लगा कि अगर यह सौदा जल्दी नहीं किया तो व्यापारिक लाभ का एक अच्छा मौका हाथ से निकल जाएगा। उसने वह सौदा कर लिया और सोचा कि सोहन  के आते ही उसे बता दूंगा। सोहन जब शहर वापिस आया तो अन्य व्यापारियों ने उसे भड़का दिया कि महेश ने अपने व्यक्तिगत लाभ के लिए तुम्हारे बिना बड़ा सौदा कर लिया है।

सोहन लोगों के बहकावे में आकर बिना सोचे विचारे  महेश से इस बात पर झगड़ पड़ा और उससे कहने लगा- ‘महेश! मुझे यकीन नहीं आता कि तुमने बिना मेरी राय जाने यह सौदा कर लिया। तुम्हारी हिम्मत कैसे हो गई?’ महेश ने सोहन को समझाने का बहुत प्रयास किया, किंत मोहन कुछ भी समझने को तैयार नहीं था। 

उसने महेश से कहा कि कल ही व्यापार को अलग करने की प्रक्रिया शुरू कर देंगे। महेश से यह कहकर सोहन अपने घर आ गया। सोहन की मां ने सोहन को परेशान देखकर परेशानी का कारण पूछा तो उसने सब बता दिया। मां ने गंभीरता से सोच-विचार किया और फिर सोहन से कहा- ‘यह जो हमारे आंगन में आम का पेड़ है इसके सूखे व पीले पत्ते कहां गए?’  ने  सोहन कहा- ‘गिर गए होंगे।’ 

मां ने कहा- ‘अगर नहीं गिरते तो अच्छा होता।’  सोहन  ने अचरज से कहा- ‘अगर नहीं गिरते तो पेड़ कितना खराब लगता?’ तब मां ने समझाया- ‘इस तरह तुम भी अपने मन से महेश  के प्रति कुविचार हटाओ और शांत मन से व्यापारिक विषय पर  महेश  से वार्तालाप करो, हल जरूर निकल आएगा।’  सोहन  को तत्क्षण अपनी भूल का एहसास हो गया। वह तुरन्त महेश   के पास गया और हाथ जोड़कर उससे क्षमा मांगी। तब महेश  ने सोहन को शांति से बैठकर व्यापारिक सौदे के बारे में समझाया।सोहन को जब सब समझ में आया तो उसने महेश की प्रशंसा की। 

सार यह है कि दूसरों के बहकावे में आने की बजाय अपने विवेक और बुद्धि से काम लें। क्योंकि दूसरे लोग जो आपकी तरक्की और सुख से जलते हैं वह आपका पतन देखकर खुश होते हैं। अगर दो भाइयों में अथवा दो मित्रों में कोई व्यापारिक या पारिवारिक विवाद है तो उसे आपस में मिल कर घर की चारदीवारी के अंदर बैठकर शांत मन से सुलझाएं, हल अवश्य निकलेगा। 

दो भाई, मित्र अथवा रिश्तेदार जब कोर्ट कचहरियों के चक्कर में पड़ जाते हैं तो विवाद का कभी न कभी हल तो अवश्य निकल आता है, किंतु मन के अंदर जो एक दूसरे के प्रति खटास आ जाती है, वह आने वाली कई पीढ़ियों तक खत्म नहीं होती।

शिक्षा-आपसी विवाद को खुद मिल बैठ कर सुलझाएं

More from my site

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *