रबर बैंड का आविष्कार किसने किया- Rubber band ka avishkar kisney kiya

rubber band ka avishkar

रबर बैंड का आविष्कार किसने किया- Rubber band ka avishkar kisney kiya

 रबर बैंड का आविष्कार स्टीफन पेरी ने किया था |आज रबर बैंड का उपयोग लगभग हर काम में होने लगा है। सवेरे अखबारवाला अखबार को रबर बैंड में लपेटकर ऊपर की मंजिल में फेंकता है। महिलाएँ बाल बाँधने के लिए रबर बैंड का प्रयोग करती हैं। थैले से सामान बाहर न निकल जाए, इसलिए थैले का मुँह रबर बैंड से बाँध दिया जाता है। 

रबर का प्रयोग मध्य और दक्षिण अमेरिका के मूल निवासी सदियों से करते रहे हैं। वे वहाँ उपलब्ध रबर के पेड़ों से निकलनेवाले तरल रबर को सुखाकर रबर बना लेते थे और तरह-तरह से उसका उपयोग करते थे। वहाँ पर रबर के वस्त्र, कोट, हैट, खिलौने, स्कर्ट आदि तो बनते ही थे, रबर की बोतलें भी बनती थीं, जिनमें तेल आदि रखा जाता था। 

सन् 1820 में एक बार थॉमस हैनकॉक नामक अंग्रेज को वहाँ के एक आदिवासी ने रबर की बोतल दी। हैनकॉक ने उस बोतल को ध्यान से देखा और फिर चाकू लेकर उसके स्लाइस काटे। इस प्रकार विश्व का पहला रबर बैंड तैयार हुआ। 

हैनकॉक ने रबर बैंड का प्रयोग तरह-तरह से करना प्रारंभ किया। उसने मोजों में इनका प्रयोग किया, ताकि वे नीचे न लटकें। उसने कपड़ों में प्रयोग करना प्रारंभ किया भी, ताकि वे खिसकें नहीं; पर हैनकॉक के दिमाग में अपने आविष्कार को पेटेंट कराने का विचार नहीं आया। 

रबर बैंड को पहले-पहल पेटेंट कराया स्टीफन पेरी नामक अंग्रेज ने और वह भी पच्चीस साल बाद अर्थात् सन् 1845 में। उसने रबर बैंड को अन्य कई तरीकों से प्रयोग किया और उसका कारखाना भी लगाया, जिससे उसने काफी धन कमाया।

17 मार्च, 1845 को, स्टीफन पेरी (एक ब्रिटिश आविष्कारक और व्यवसायी) को पहले रबर बैंड के लिए पेटेंट मिला।

रबर बैंड पिछले 170 वर्षों से एक साथ चीजों को पकड़ रहा है। सस्ता, विश्वसनीय और मजबूत, रबर बैंड दुनिया के सबसे सर्वव्यापी उत्पादों में से एक है।

More from my site

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *