सामान्य ज्ञान के प्रश्न-राष्ट्रपति ‘प्रथम नागरिक’ क्यों कहलाता है?

Rashtrapati pratham nagrik kyon kahlata hai

  राष्ट्रपति ‘प्रथम नागरिक’ क्यों कहलाता है? 

सामान्य ज्ञान के प्रश्न-  देश का राष्ट्रपति या सर्वोच्च पदासीन व्यक्ति वर्तमान में देश का सबसे महत्वपूर्ण और शक्तिशाली (चाहे औपचारिक रूप से ही सही) व्यक्ति होता है। वह देश का सर्वोच्च स्तर पर प्रतिनिधित्व करता है, इसलिए यह माना जाता है कि उसमें कुछ ऐसे विशिष्ट गुण जरूर हैं, जो अन्यत्र उपलब्ध नहीं होते हैं।

‘अपराधियों की सजा कम करने या माफ करने का अधिकार’ उन्हें इसी कारण दिया जाता है। देश का प्रथम नागरिक माने जाने के पीछे भी यही कारण है। इसीलिए उसे वैयक्तिक-सदन’ कहकर भी पुकारा जाता है। 

भारत में भी संसद का गठन राष्ट्रपति तथा उन दो सदनों को मिलाकर किया गया है, जिनके नाम राज्यसभा और लोकसभा हैं। ‘आत्मार्पण’ के सिद्धांत के आधार पर संसद उसे देश का प्रतिनिधि नागरिक मानकर अपने द्वारा पारित किये गये विधेयक को उसकी मंजूरी के लिए पेश करती है और उसकी मंजूरी के बाद ही वह विधेयक कानून बन पाता है। यही कारण है कि इसे सर्वोच्च प्रतिनिधि नागरिक या प्रथम नागरिक कहकर पुकारा जाता है। 

वही सर्वोच्च सदन, सर्वोच्च कार्यपालिका अधिकारी, सर्वोच्च कमांडर और सर्वोच्च न्यायाधीश भी कहलाता है अर्थात देश के प्रत्येक सर्वोच्च पद का प्रथम संवैधानिक अधिकारी वही होता है। 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

six + 16 =