राजस्थान में घूमने वाली जगह

राजस्थान में घूमने वाली जगह

राजस्थान में घूमने वाली जगह- Rajasthan mein ghumne wali jagah

राजस्थान अपनी कला, संस्कृति, मेले, स्थापत्यकला, किले, महलों, झीलों से देश में स्वास पहचान रखता है। यहां आने वाले पर्यटक यहां से रोमाचित होकर जाते हैं, और उनका मन बार-बार आने को करता है। जोधपुर, चित्तौड़गढ़, पुष्कर, नाथद्वारा, दिलवान के मदिर, एकलिंगजी का मदिर, सरिका, रणथम्भौर, केवलादेव अभयारण्य, माउंट आबू विश्वप्रसिद्ध हवा महल सहित कई दर्शनीय स्थल यहां है। 

राजस्थान में घूमने की जगह- Rajasthan mein ghumne ki jagah,

उदयपुर 

जग निवास द्वीप

जग निवास द्वीप पिछोला झील पर बना हुआ है। जग निवास दीप वास्तविक में एक होटल है। इस द्वीप के पास कमल के तलाब, कोर्टयार्ड, स्विमिंग पूल जो आम के पेड़ों की छांव में बना हुआ है, पर्यटकों के लिए यह  अच्छा स्थान है।

सिटी पैलेस 

सिटी पैलेस में जैसे ही प्रवेश करते हैं आपको एक भाव त्रिपोलिया गेट दिखाई पड़ता है जिसमें सात आर्क हैं। यह सातों आर्क स्मवरणोत्सैवों के प्रतीक हैं। यह उस समय की बात है जब राजा को  तराजू पर एक तरफ बैठा कर राजा को सोने चांदी से तोला गया था और उनके बराबर में सोने चांदी गरीबों में बांट दिया गया था।सिटी पैलेस के सामने की दीवार होती है जिसे ‘आगद’ कहते हैं। पुराने समय में इस जगह पर हाथियों की लड़ाई का खेल हुआ करता था। इस सिटी पैलेस में एक जगदीश मंदिर भी है।

शिल्पग्राम 

यह एक शिल्पग्राम है जहां महाराष्ट्र राजस्थान गुजरात गोवा के परंपरिक घरों को दिखाया गया है। यहां पर सभी राज्यों के नृत्य और शास्त्रीय संगीत को प्रदर्शित किया जाता है।

सज्जनगढ़ (मानसून पैलेस)

यह गढ़ उदयपुर शहर के दक्षिण में सज्जनगढ़ उदयपुर शहर के दक्षिण में अरावली पर्वतमाला एक पहाड़ की चोटी पर स्थित है। यहां से इसकी झीलो का सुंदर नजारा और सज्जनगढ़ से उदयपुर शहर का नजारा दिखता है। इसकी पहाड़ की तलहटी में एक सुंदर अभयारण्य है । शाम के समय इस माहौल के चारों तरफ रोशनी से जगमगा उठता है।

मोती मगरी 

प्रसिद्ध राजपूत राजा महाराणा प्रताप की मूर्ति मोती मगरी में उपस्थित है। फतेहसागर के पास की पहाड़ी पर मोती मगरी स्थित है। मोती मगरी में मूर्ति तक जाने वाले रास्तों में सुंदर बगीचे हैं, विशेषकर जापानी रॉक गार्डन पर्यटन को खूब लुभाते हैं।

सहेलियों की बाड़ी 

सहेलियों की बाड़ी, दासियों के सम्मान में बना एक सजा-धजा बाग है। इसमें कमल के तालाब, फव्वारे, संगमरमर के हाथी और कियोस्क बने हुए हैं। सुखाड़िया सर्किल का नजारा देखने लायक होता है।। झीलों की नगरी कहे जाने इस पर्यटक स्थल में कई शानदार झीलें हैं, जो सुकून भरा अहसास देती हैं। 

खानपान 

यहां के लोगों को शाकाहारी भोजन ज्यादा पसंद है। यहां की सब्जियों और कई प्रकार की मिठाइयों का जवाब नहीं। कैर सांगरी, गट्टे, ग्वारफली की सब्जी के अलावा बालूशाही, बेसन चक्की, घेवर जैसा मीठा तो है ही, मक्के की रोटी और दाल-बाटी, चूरमा विशेष प्रसिद्ध है|

राजस्थान  के दर्शनीय स्थल- Rajasthan mein darshniya sthal

जयपूर 

राजस्थान की राजधानी जयपुर राज्य के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है। आमेर और जयगढ़ के किल, सरगासूली के साथ निम्न स्थान आपका मन मोह लेंगे। 

हवा महल

हवा महल

विश्व प्रसिद्ध हवामहल जिसमें 5 मंजिली इमारत है। इस महान में गुलाबी रंग तिरंगा गया है जो अष्टभुजाकार और परिष्कृत छतेदार बलुए पत्थर की खिड़कियों से सुसज्जित है।इस महल को बनाने का सबसे बड़ा उद्देश्य था कि शाही घराने की स्त्रियां जो अपने महल को छोड़कर बाहर नहीं निकल सकती थी उनको शहर का जूलूस  और शहर का दैनिक जीवन देख सके।

 सिटी पैलेस

सिटी पैलेस राजस्थानी और मुगल  शैलियों की मिश्रित यह शाही निवास पुराने शहर के बीचोबीच स्थित है।भूरे संगमरमर के स्तंभों पर टिके नक्काशीदार मेहराब, रंगीन पत्थरों की फलों वाली आकृतियों और सोने से अलंकृत है। इस महल के प्रवेश द्वार  पर दो नक्काशीदार हाथी प्रवेश  प्रवेश द्वार पर खड़े हुए हैं।

इस महल  में एक बहुत बड़ा संग्रहालय है जिसमें मुगलों तथा राजपूतों के हथियार, राजस्थानी पोशाक का बढ़िया संग्रह है| इस महल में विभिन्न रंगों और आकारों वाली तराशी हुई तलवारे भी है, जिसमें से कई जवाहरातों व मीनाकारी के जड़ाऊ काम अलंकृत हैं। इस माहौल में  कलादीर्घा भी है शाही साजो-सामान,कालीनों,लघुचित्रों और संस्कृत लैटिन फारसी वह अरबी में दुर्लभ खगोल विज्ञान की रचनाओं का सबसे बड़ा उत्कृष्ट संग्रह है।

जंतर मंतर

जंतर मंतर

जब जंतर मंतर एक प्रकार की पत्थर की वेधशाला है जिसके अंदर जटिल यंत्र और इनका विन्यास और आकार वैज्ञानिक ढंग से तैयार किया गया है। जंतर मंतर में सबसे प्रभावशाली यंत्र राम यंत्र है जिसका उपयोग ऊंचाई मापने के लिए किया जाता है।

राजस्थान में प्रमुख पर्यटन स्थल- Rajasthan mein pramukh paryatan sthal

बीकानेर 

जैन मंदिर 

जैन मंदिर में भांडासर का मंदिर भी पाया जाता है जो बहुत प्राचीन है यह मंदिर बहुत ही उचाई पर स्थित है यहां पर पर्यटक इस मंदी के ऊपर चढ़कर सारे नगर का मनोरम ड्रेस दिखाई पड़ता है। यहां पर एक नेमिनाथ मंदिर भी काफी प्रसिद्ध है।

बीकानेर किला 

यह किला शहरपनाह के कोट दरवाजे से लगभग तीन सौ गज की दूरी पर है। भीतर प्रवेश करने के लिए दो प्रधान द्वार हैं। जिनके बाद फिर तीन या चार दरवाजे हैं। कोट में स्थान-स्थान पर ऊंची-ऊंची बुर्जे  बनी हुई है। इस जगह पर चारों ओर बड़ी बड़ी खाई है। इस माहल में कार्य स्थान पर कांच की पच्चीकारी की हुई है। इस किले के भीतर राजस्थानी फारसी प्राकृत और संस्कृत भाषा की हस्त लिखित पुस्तक का बहुत बड़ा लाइब्रेरी है यहां का शस्त्रागार जहां शास्त्रों को रखा जाता है, जो देखने योग्य है।

इस किला में प्राचीन और तो शास्त्रों का बहुत बड़ा सहारा है और कहीं कहीं कमरे पीतल की मूर्तियां भी रखी हुई है जिसको 33 करोड़ देवता के नाम से लोगों द्वारा पूजा की जाती है। इस किले में 4 को है दो बगीचे एक घंटा घर है इस किले में उपस्थित हुए करीब 360 फीट गहरे हैं।

लालगढ़ महल 

लालगढ़ महल नगर के बाहर की चारों तरफ की देखने पर इसकी इमारत बहुत सुंदर लगता है यह महल लाल पत्थर से बना हुआ है, इस पत्थर पर खुदाई का बड़ा उत्कृष्ट काम किया गया। इस महल के भीतर में बहुत सारे संगमरमर हैं। इसमें 100 से अधिक भाव है कमरे बनी हुई है। इस महल के अहाते में बहुत सुंदर बगीचे बने हैं जिसमें कई रंग बिरंगे फूलों से भरी हुई हरियाली, सघन वृक्षों, कहीं लताओं से सजे हुए पेड़ और उनकी हरियाली की देखने लायक जगह है। महल के एक भाग में तरणताल भी है।