पहाड़ों पर खेल-पैरा ग्लाइडिंग,ट्रैकिंग,स्कीइंग,रिवर राफ्टिंग,माउंटेन बाइकिंग  

पहाड़ों पर खेल

पहाड़ हमेशा सबको अपनी ओर खींचता है।दूर-दूर तक फैली चोटिया, हरे-भरे मैदान,लहराते-बल खाते रास्ते और जगह-जगह मीलों तक फैली बर्फ ही बर्फ। यहां पहुंचकर वापस अपने शहरों में जाने का मन ही नहीं करता।और इन सबके साथ सबसे बड़ा आकर्षण होता है यहां के रोमांचक खेल। स्कीइंग, रिवर राफ्टिंग, ट्रैकिंग, पैरा ग्लाइडिंग, बैलूनिंग और माउंटेनियरिंग जैसे खेल खेलने के लिए लोग दूर-दूर से पहाड़ों की तरफ खिंचे चले आते हैं। 

पैरा ग्लाइडिंग 

पैराग्लाइडिंग का खेल पर्वतों पर सबसे प्रसिद्ध है। पतंग की तरह ग्लाइडर को गति देते हुए पंछी की तरह उड़ने का आनंद ही कुछ और है। यह कोई बहुत मुश्किल नहीं होता है और एक्सपर्ट की देखरेख में इसे आसानी से किया जा सकता है। हिमाचल प्रदेश का बिलिंग पैराग्लाइडिंग के लिए बहुत प्रसिद्ध है। यहां से पैराग्लाइडिंग करते हुए पर्यटक बीर नामक गांव तक पहुंचते हैं। इसी तरह उत्तराखंड के बुग्याल और मनाली में भी इसकी अच्छी सुविधा है। 

ट्रैकिंग 

हिमालय के पहाड़ दुनिया के सबसे नए पर्वत माने जाते हैं। इन्हें ट्रैकिंग के लिए सर्वश्रेष्ठ माना गया है। यहां के दरों से होकर कठिन रास्तों पर ट्रैकिंग करने का अद्भुत आनंद होता है। ट्रैकिंग के लिए दार्जिलिंग, सिक्किम, जम्मू-कश्मीर और उत्तराखंड के पहाड़ बहुत अच्छे माने गए हैं। 

स्कीइंग 

पहाड़ों के मैदानों में जब बर्फ जमती है, तो उस पर स्कीइंग करने का अलग ही आनंद है। बच्चे और बड़े सभी स्कीइंग करने के लिए मचल उठते हैं। भारत के कई हिल स्टेशन स्कीइंग के लिए प्रसिद्ध हैं। कश्मीर में पहलगाम और गुलमर्ग, हिमाचल प्रदेश में शिमला के पास कुफरी, मनाली के पास सोलंग और उत्तराखंड के औली में लोग खासतौर पर स्कीइंग के लिए जाते हैं। 

रिवर राफ्टिंग 

हिमालय की नदियां रिवर राफ्टिंग के लिए दुनिया में सर्वश्रेष्ठ मानी जाती हैं। पथरीले पहाड़ों के बीच से निकलती तेज धाराओं में एक बोट पर बैठकर बेलगाम धारा में नाव को चलाने का अनुभव आपको जीवन भर याद रहेगा। रिवर राफ्टिंग के लिए भारत में उत्तराखंड में गंगा की धाराओं को सबसे बेहतर माना जाता है। ऋषिकेश में हर छुट्टियों में रिवर राफ्टिंग के कैंप लगते हैं। इसके अलावा हिमाचल प्रदेश में शिमला, कुल्लू, चंबा, लाहौल में रिवर राफ्टिंग का खेल होता है। 

माउंटेन बाइकिंग 

यहां बाइक से मतलब साइकिल से ही है। पहाड़ी रास्तों पर साइकिल चलाने का अलग ही रोमांच है। लोग तो दिल्ली जैसे शहरों से अपनी साइकिल लेकर पहाड़ों तक कारों से जाते हैं। फिर वहां साइकिलिंग करते हैं। हिमाचल प्रदेश में धर्मशाला, चंबा, कांगड़ा, कुल्लू, कश्मीर में लद्दाख के अलावा सिक्किम भी माउंटेन बाइकर्स की पहली पसंद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *