मजेदार शिक्षाप्रद कहानियां-मददगार चेन 

मजेदार शिक्षाप्रद कहानियां-

मजेदार शिक्षाप्रद कहानियां-मददगार चेन 

चीन के किसी शहर में एक व्यापारी रहता था। वह बहुत धनी था। व्यापारी के पास सुख-सुविधा का सारा सामान था, इसलिए वह बहुत खुश रहता था। व्यापारी एक अच्छा इन्सान था। वह बहुत दयालु और मददगार था। व्यापारी अपने नौकरों के साथ भी अच्छा व्यवहार करता था, अतः सभी उससे बहुत प्यार करते थे। वह सभी लोगों की मदद करता था। 

लेकिन एक बार दुर्भाग्यवश यात्रा से वापसी के दौरान व्यापारी की आंख में कुछ खराबी आ गई। शहर का कोई भी चिकित्सक उसे ठीक नहीं कर पाया। ऐसे में वह बहुत दुखी रहने लगा। अतः उसने घोषणा कर दी कि उसकी आंख ठीक करने वाले व्यक्ति को समुचित इनाम दिया जाएगा। 

उसी शहर में चेन नामक एक व्यक्ति रहता था। वह सब्जी बेचता था। उसे एक जादुई जड़ी के बारे में जानकारी थी, जिससे व्यापारी की आंख ठीक हो सकती थी। अगले दिन वह उस जड़ी की खोज में जंगल चला गया। चेन चींटियों की एक बांबी के पास पहुंचा। उसमें पानी भरा हुआ था। चेन को चींटियों पर बहुत दया आई। उसने बांबी में से सारा पानी निकाल दिया और चींटियों की जान बच गई। 

मजेदार शिक्षाप्रद कहानियां-

फिर चेन वहां से आगे चल पड़ा। तभी उसने देखा कि एक चील, कनखजूरे पर झपट्टा मारने वाली थी। चेन ने चील द्वारा झपट्टा मारने से पहले ही उसे भगा दिया और कनखजूरे की जान बचा ली। उसी रात वह कनखजूरा उसके सपने में आकर बोला, “चेन, जो जड़ी तुम खोजने आए हो, वह जड़ी पाइन वृक्ष की जड़ों में मिलेगी। उस पाइन वृक्ष के दो तने हैं।” 

प्रात:काल चेन उस जड़ी को खोजने के लिए आगे बढ़ चला। शीघ्र ही उसे दो तनों वाला पाइन वृक्ष मिल गया। लेकिन काफी कोशिश करने के बाद भी वह पाइन वृक्ष की जड़ों तक नहीं जा सका। तभी वे चींटियां वहां आ गईं, जिनकी उसने जान बचाई थी। वे पाइन वृक्ष की जड़ तक गईं और शीघ्र ही वह जड़ी ले आईं। 

इसके पश्चात चेन, धनी व्यापारी के पास पहुंच गया और वह जड़ी उसे दे दी। उस जड़ी से व्यापारी की आंख का रोग ठीक हो गया। व्यापारी की खुशी का ठिकाना नहीं रहा। उसने चेन को काफी इनाम दिया। इनाम लेकर वह खुशी-खुशी अपने घर चला गया।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

seventeen + 16 =