साहित्य समाज का दर्पण है | Literature is the mirror of society

साहित्य समाज का दर्पण है

“साहित्य समाज का दर्पण है”

सस्कृति और सभ्यता दो पृथक व्यवस्थाएं तथा विचार तत्व हैं किन्तु दोनों ही एक-दूसरे के पूरक हैं। इनकी सम्पूर्णता विश्वव्यापी व सर्वकालिक तब संभव बन जाती है जब इनकी अभिव्यक्ति संकलित हो जाए व संस्कार रूप में आने वाली पीढ़ियों के लिए अध्ययन का आधार व ज्ञान का प्रतीक बन जाए तभी एक विशिष्ट समाज का चरणोबद्ध विकास देखा व समझाया जा सकता है। अतः यदि यूँ कहें कि सभ्यता और संस्कृति तभी युग विशेष की सामाजिक व्यवस्था में परिवर्तित होती हैं जब उनका साहित्यिक विवेचन संभव हो, अन्यथा मूक साक्ष्य सभ्यता का भौगोलिक वर्णन ही करते हैं। किंतु समाज और संस्कृति की विशिष्ट पहचान साहित्य के माध्यम से ही संभव है अथवा साहित्य के अभाव में इसे अंधकार युग की संस्कृति कहना पाठक के लिए एक असांमजस्य स्थिति का प्रतीक होता है। अत: साहित्य लेखन भाषा और लिपि का जन्म, स्वतंत्र अभिव्यक्ति, संकलन की परिपाटी तथा संकलित सामग्री का रखरखाव ऐसी मानवीय पृवत्ति है जिसके द्वारा युवा विशेष के समाज और उसकी विशिष्ट संस्कृति को संजोया जा सकता है। 

संस्कृति का निर्माण वस्तुतः समुदाय और समाज का परिपक्व रूप है। ज्ञातव्य है कि भौगोलिक विस्तारण युग विशेष की सभ्यता का सूचक हो सकता है जिसके भीतर क्षेत्रीय गुट को समुदाय कहा जाता है और इन समुदायों के संयोजन से समाज का निर्माण होता है जो मुख्यतः भौगोलिक और आर्थिक व्यवस्था पर केन्द्रित होता है। इसी कारण प्रारंभिक सभ्यताओं के विषय में सदैव आर्थिक जीवन लिखा जाता है अथवा सम्बोधित किया जाता है। वस्तुत: जब उस समाज विशेष की सामाजिक, राजनैतिक, प्रशासनिक, राजनैतिक, धार्मिक, न्यायिक व्यवस्थाएं स्थापित हो जाती हैं तब स्वतः ही पृथक पृथक क्षेत्रों में संस्कारों का निर्माण होता है। यही संस्कार सृजित होकर संस्कृति का निर्माण करते हैं जो आधारभूत रूप से दो प्रकार के होते हैं औपचारिक संस्कार और अनौपचारिक संस्कार, व्यक्तिगत रूप से समाज की इकाई अथवा परिवार में दिये जाने वाले संस्कार अनौपचारिक होते हैं जबकि व्यवस्था संबंधी संस्कार औपचारिक होते हैं। इन्हीं का संकलन परम्परागत रूप से मौखिक तथा लिखित साहित्य का कारण है। अत: संस्कृति निर्माण के उपरांत ही साहित्य संकलन संभव होता है। जो भाषायी आधार पर मौखिक होता है जबकि लिपिबद्ध होने पर लिखित साहित्य का सृजन होता है। 

साहित्य वस्तुतः क्षेत्र विशेष की भौगोलिक स्थिति संस्था, जलवायु, विचारधारा, राजनैतिक एवं धार्मिक प्रभाव संस्कारों विश्वासों एवं मूल्यों एवं व्यवस्थाओं से संबंधित होता है। तकनीकि उत्थान प्रसार, प्रभाव और पराभाव की व्याख्या से सामंजस्य रखता है। सुदृढ़ अर्थव्यवस्था सुशिक्षित समाज तथा उदारवादी युग में इसका विकसित होना एक स्वाभाविक प्रक्रिया है जबकि इसी के विपरीत अराजकता, रूगढ़ अर्थव्यवस्था और असुरक्षा के काल विशेष में साहित्य का संकीर्ण हो जाना अतः उसका विषयवस्तु नकारात्मकता से प्रेरित होना एक विशिष्ट मनोवैज्ञानिक कारण होता है। ऐसे में तत्कालिक व पूर्वकालिक साहित्य का बहुमुखी अध्ययन कार्य विशेष की समाज और संस्कृति को पाठक के समक्ष उजागर कर देता है। मोटे तौर पर विश्वव्यापी साहित्य भाषा, लिपि लेखन सामग्री तथा लेखन में प्रयुक्त अथवा लेखन के लिए चयनित विषयवस्तु विश्व के विकास का सम्पादन करते है अतः सभ्यताओं का युग विशेष व मन्वन्तर के काल में हुए विकास को अथवा पतन को एकमात्र साहित्य के द्वारा ही जाना व समझा जा सकता है। साहित्य, सभ्यता, संस्कृति और समाज व उसकी परम्पराओं का विभाजन करता है और स्पष्ट कर देता है कि किस भौगोलिक और सांस्कृतिक क्षेत्र में कौन से वह आर्थिक, राजनैतिक व सांस्कृतिक कारण थे जिस कारण विशिष्ट समाज का प्रादुर्भाव हुआ अथवा वह कौन-सी गतिविधियां थी जिनसे अमुक व्यवस्था ने जन्म लिया, साहित्य लेखन की विभिन्न विधाएं जैसे धार्मिक साहित्य, धर्मेयत्तर साहित्य, राजकीय साहित्य, असंप्रदायिक साहित्य स्वच्छन्द, संस्मरण साहित्य, यात्रावृतान्त साहित्य व्यवसायिक साहित्य, जीवन वृतांत साहित्य, टीका टिप्पणी इत्यादि वस्तुत: ऐसे माध्यम हैं जिनके द्वारा पृथक-पृथक विधाओं और शैलियों के माध्यम से तत्कालिक लेखक के मनोभाव व उसको समाज की स्वीकृति तथा उसके द्वारा समाज का विश्लेषण ज्ञात होता है। ऐसे साहित्य विशेष का तुलनात्मक अध्ययन अवश्यम्भावी हो जाता है तत्कालिक, पूर्वकालिक, उत्तरोत्तरकालिक साहित्य के साथ आख्यानात्मक वर्णन पाठक को एक निष्कर्ष पर पहुंचा देता है जिसके माध्यम से एक युग विशेष की सामाजिक व्यवस्था और सांस्कृतिक मान्यता स्पष्ट हो जाती है। एतैव साहित्यकार और समाजशास्त्री यह मानते हैं कि साहित्य को किसी भी क्षेत्र विशेष के तत्कालिक व ऐतिहासिक अध्ययन चक्षु कहना चाहिए। 

भारतीय साहित्य वास्तव में भारतीय साहित्य व संस्कृतिक विशेषता को व्याख्यारित करने में सक्षम है। लगभग दो सौ भाषाओं और आठ लिपियों में सृजित भारतीय साहित्य अपनी लेखन शैली से ही वैदिक समाज वेदोत्तर कालीन समाज, नास्तिक समाजों की अवधारणाएं वैदेशिक प्रजातियों के सम्मिश्रण से सृजित नये समाजों का जन्म, विभिन्न धर्म तंत्र, प्रशासनिक तंत्र, अर्थतंत्र, कला धर्म, मूल्य विश्वास तथा उनमें आये परिवर्तनों का संकलन भारतीय साहित्य के द्वारा संकलित हुआ जिसकी विवेचना से ही पृथक-पृथक क्षेत्रों व पृथक-पृथक युग विशेष पृथक-पृथक व्यवस्थाओं आदि के जन्म और पराभाव का संपूर्ण चित्रांकन भारतीय साहित्य करता है। 

अत्याधुनिक युग में भी वैश्वीयकरण, भूमंडलीयकरण, उदारवाद, सार्वजनिक एवं निजीकरण, आणिविक शक्ति, तकनीकि विकास विज्ञान व पर्यावरण, खगोल यह सारे विषयवस्तु जो व्यवस्था परिवर्तन के सूचक हैं विभिन्न साहित्य के विशुद्ध वर्णन से ही संभव होता है। अत: यह कहना कि साहित्य किसी पृथक समाज का दर्पण होता है। वास्तव में इसकी संकीर्ण परिभाषा है अत: यदि हम यूँ कहें कि साहित्य के माध्यम से किसी भी समाज और संस्कृति के जन्म, संचरण, पराभव और नवीन समाज की उत्पत्ति उस पर अन्य समाजों का प्रभाव समाजिक सामंजस्य, सामाजिक द्वंद नवीन व्यवस्थाओं का सृजन और सृजित अवधारणाओं का विकास सकारात्मक और नकारात्मक विचारों का जन्म उनके परिणाम और भविष्योत्तर कालीन योजनाओं का प्रारूप सभी दृष्टिकोणों से साहित्य सृजन ही एकमात्र विकल्प निकलता है अत: साहित्य की वृहद परिभाषा उसे समाज का दर्पण न मानकर, प्रतिबिम्ब स्वीकारना अधिक उचित होगा।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

four + eleven =