Interesting Bate in hindi-लेखक से जुड़ी रोचक जानकारी

Interesting Bate in hindi-लेखक से जुड़ी रोचक जानकारी

Interesting Bate in hindi-लेखक से जुड़ी रोचक जानकारी

‘रॉबिन्सन क्रूसो’ के लेखक डेनियल डेफो की यह पुस्तक बीस प्रकाशकों से वापस लौट आयी और इसके बाद छपी। छपने के बाद यह पुस्तक इतनी लोकप्रिय हुई कि गत 250 वर्षों से लगातार सबसे अधिक बिकने वाली पुस्तकों में रही है और अनेक भाषाओं में अनूदित हो चुकी है। 

मिल्टन की प्रसिद्ध पुस्तक ‘पेराडाइज लॉस्ट’ की अपने प्रथम संस्करण में सिर्फ चालीस पुस्तके बिकी थीं। 

विलियम शेक्सपीयर के जीवनकाल में उनका लिखा एक भी नाटक प्रकाशित नहीं हो सका। किंतु आज इनकी पाण्डुलिपियां बहुमूल्य मानी जाती हैं। 

Interesting Bate in hindi

‘क्राइम एण्ड पनिशमेंट’ जैसी प्रसिद्ध पुस्तक के रचयिता फेडदोर दोस्तोवस्की ने अपनी पुस्तकों के लेखन से प्राप्त अधिकांश धनराशि द्वारा जुए की उधारी चुकाई। उन्हें जुआ खेलने का शौक था और वे अपने जीवनकाल में अनेक बार दिवालिए हुए। अंत में मांगने वालों से बचने के लिए वे स्विट्जरलैंड भाग गए। 

एडगर एलन पा ने अपनी प्रथम पुस्तक मात्र बारह सेंट में बेची थी। कछ समय पहले वही पुस्तक एक नीलामी में ग्यारह हजार डॉलर में बिकी। 

रडयार्ड किपलिंग ने अपनी दरिद्रता के दिवसों में अपने बच्चे का लालन-पालन करने वाली नर्स को एक पाण्डुलिपि पारिश्रमिक के बदले में दी और कहा कि “कभी यह पुस्तक तुम्हारी दरिद्रता दूर करेगी।” उनका कहना सही निकला। इस नर्स ने कई वर्षों बाद वह पुस्तक बेच दी और इस पाण्डुलिपि ने उसकी दरिद्रता सदा के लिए मिटा दी। इस पुस्तक का नाम था ‘द जंगल बुक’। 

Interesting Bate in hindi-

अमरीका के प्रसिद्ध लेखक विल रोजर्स की मृत्यु सन् 1935 में एक हवाई दुर्घटना में हुई। उसने इस वायुयान में चढ़ने से पूर्व अपने अखबार के लिए अपना कॉलम पूरा किया। अपने कॉलम में उन्होंने जो आखिरी शब्द टाइप किया था वह था ‘मृत्यु’। 

प्रसिद्ध अरबपति हावर्ड हुम्स की जीवनी लिखने के बहाने क्लिफोर्ड इरविंग नामक व्यक्ति ने अनेक प्रकाशकों को बेवकूफ बनाकर उनसे दस लाख डॉलर से भी अधिक राशि अग्रिम प्राप्त कर ली। कछ दिनों बाद इस धोखाधड़ी का पर्दाफाश हुआ और उसे 17 महीने का कारावास भुगतने के अलावा सारी राशि वापस लौटानी पड़ी। सन् 1976 में वह दिवालिया घोषित किया गया क्योंकि वह अपने वकीलों की सात लाख डॉलर की फीस अंदा नहीं कर पाया था। ) 

होराशियो एल्गर ने कुल 119 पुस्तकें लिखकर बड़ा धन कमाया। उन्होंने ये पुस्तकें गरीब बच्चों के लिए लिखी थी, जिनमें उन्हें कड़ी मेहनत करने और धन संचय का संदेश दिया गया था परन्तु स्वयं लेखक होराशियो का अंत अत्यन्त गरीबी में हुआ, क्योंकि उन्होंने अपना सारा धन फिजूलखर्ची में उड़ा दिया था। 

जापान के प्रोफेसर हीडियो निशिओका जापान टॉयलेट एसोसिएशन के अध्यक्ष हैं। इन्होंने जापान के एक कस्बे मिनामी मेगोम में अद्भुत संग्रहालय खोल रखा है, जहां बाथरूम सिंक, ‘के’ आकार वाली एश ट्रे, यूरिनलनुमा फ्लावर पॉट्स तथा 400 प्रकार के 72 देशों के टायलेट पेपर प्रदर्शित हैं। इन्होंने ‘कल्चरल हिस्ट्री ऑफ टायलेट पेपर’ नामक पुस्तक भी लिखी है, जिसकी 6,000 कापियां प्रारंभिक वर्ष में ही बिक गयी। (टाइम्स ऑफ इंडिया, 14-3-88) 

ज्योर्ज साइमन का जन्म सन् 1903 में बेल्जियम में हुआ था। इन्होंने 17 वर्ष की उम्र में अपना पहला उपन्यास सिर्फ दस दिनों में लिख डाला था। बाद में ये 16 छद्मनामों से लिखते रहे। 

इन्होंने कुल 150 उपन्यास अपने नाम से तथा 350 उपन्यास अपने छद्मनामों से लिखे। इनमें 98से एक उपन्यास इन्होंने मात्र 25 घंटों में लिख डाला था। 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

19 + seventeen =