मोटापा कम करने के लिए अपनाएं ये घरेलू उपाय | मोटापा घटाने के घरेलू उपाय

मोटापा कम करने के लिए अपनाएं

मोटापा कम करने के लिए अपनाएं ये घरेलू उपाय | मोटापा घटाने के घरेलू उपाय

मोटापा रोग की उत्पत्ति 

यदि खाल के नीचे सारे शरीर में वसा बढ जाए और शरीर स्थूल मालूम पड़े तो इसे ‘मोटापा’ कहते हैं। यह कोई रोग नहीं है। लेकिन जब शरीर भारी हो जाता है तो उसे अन्य रोग घेर लेते हैं। इसीलिए मोटापा अच्छा नहीं समझा जाता। यह रोग चिकनी चीजें अधिक खाने, विभिन्न प्रकार की मिठाइयां तथा पकवान खाने, चावल, आलू आदि का अधिक सेवन करने से हो जाता है। चिन्ता न करना, मस्त जीवन व्यतीत करना, अधिक समय तक बैठे रहना, थायरॉइड तथा पौरुष ग्रंथियों का ठीक से कार्य न करना आदि के कारण भी स्थूलता या मोटापा आ जाता है। 

मोटापा रोग के लक्षण 

मोटापा हो जाने के कारण व्यक्ति के शरीर में सुस्ती, सांस लेने में कष्ट या गहरी सांस लेना, थोडी मेहनत से हांफ जाना, शरीर में रक्त का ठीक से संचालन न होना, उठने-बैठने में कष्ट होना आदि लक्षण दिखाई देने लगते हैं। मन में सदैव उदासी रहती है। कार्य क्षमता घट जाती है। बाद में शुगर (मधुमेह), अपच, कब्ज, शरीर में हडकम्प हृदय रोग आदि की व्याधियां उत्पन्न हो जाती हैं। 

मोटापा घटाने के घरेलू उपाय

मोटापा कम करने के लिए घरेलू उपाय

नित्य सुबह-शाम एक गिलास गरम पानी में आधा नीबू निचोड़कर पिएं। पानी में जरा-सा सेंधा नमक भी मिला लें। साथ ही मैदा, मावा तथा घी के पदार्थों का प्रयोग न करें। 

सुबह निहार मुंह एक गिलास गरम पानी में दो चम्मच शहद घोलकर सेवन करें। यह कार्य लगभग दो माह तक करें। शहद शुद्ध होना चाहिए। 

एरंड तथा आक की जड़ों को सुखाकर पीस लें। इसमें से 5 ग्राम चूर्ण रात को गरम पानी में भिगो दें। सुबह पानी छानकर सेवन करें। 

नित्य सुबह पैर के तलवों में 5 मिनट तक देशी घी की मालिश करें। फिर 2 किलोमीटर तक टहलें। चार पीपलों का चूर्ण शहद में मिलाकर खाएं।

दो चम्मच मूली के रस में नीबू और जरा-सा सेंधा नमक मिलाकर चाटें।

प्रतिदिन आधा लीटर जौ का पानी पिएं। 

भोजन के साथ प्रतिदिन दो हरी मिर्चों का सेवन अवश्य करें।

शहद में थोड़ी-सी पिसी सोंठ मिलाकर प्रयोग करें।

मेथी के दानों को पीसकर एक चम्मच चूर्ण पानी के साथ लें। 

त्रिफला चूर्ण एक चम्मच सुबह तथा एक चम्मच शाम को गरम पानी के साथ सेवन करें। 

दो चम्मच करेले के रस में दो चम्मच नीबू का रस मिलाकर प्रतिदिन चाटें।

100 ग्राम कुलथी की दाल का उपयोग नित्य करें।

10 ग्राम गन्ने का सिरका पानी में मिलाकर रोज पिएं। 

तुलसी के पत्तों का रस 10-15 बूंदें प्रतिदिन शहद में मिलाकर लें। 

हरी मिर्चों का सेवन करने से मोटापा दूर होता है 

मोटापा कम करने की होम्योपैथिक दवा (होमियोपैथिक इलाज)

मोटे थुलथुल शरीर वाले व्यक्ति को अपना शरीर छरहरा बनाने के लिए कैल्केरिया कार्ब लेना चाहिए। 

यदि मोटापा अधिक बढ़ गया हो तो कैलोट्रापिस जाइगैन्टिया मूलार्क की 5-5 बूंदें दिन में तीन बार दें।

मोटे तथा भारी शरीर वाले लोग ग्रेफाइटिस 3 का प्रयोग करें।

शरीर में चर्बी अधिक बढ़ जाने पर फाइटोलेक्का डिकैंड्रा 2 का सेवन करें।

कार्ल्स बाडसाल्ज की निम्न शक्ति मोटापा दूर करने में लाभकारी है। 

मोटापा कम करने के लिए  बायोकैमिक चिकित्सा 

नैट्रम म्यूर मोटापा दूर करने की सर्वोत्तम दवा है।

मोटापा दूर करने के लिए कैल्केरिया फॉस 6x का प्रयोग दिन में चार बार करें।

दिन में तीन बार कॉलि म्यूर 6x का सेवन कराएं। 

मोटापा दूर करने के लिए ये दवाएं मिलाकर दें-कैल्केरिया फॉस 3x तथा कॉलि फॉस 3x अथवा नैट्रम म्यूर 3x और साइलीशिया 12x |

मोटापा कम करने की दवा (एलोपैथिक चिकित्सा )

मोटापे से छुटकारा पाने के लिए यहां दी जा रही दवाओं का सेवन अपने डॉक्टर से पूछकर करें-टैक्लेट पाउड्रेक्स(Taclet powderex), आइसोमेटाइड (Isometide) अथवा स्लिमफास्ट (Slimfast)। 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

3 × 5 =