Hindi story for kids-यूनान का राजा और हकीम

Hindi story for kids

Hindi story for kids-यूनान का राजा और हकीम

बहुत समय पहले की बात है। यूनान में एक राजा शासन करता था। एक बार वह बहुत बीमार पड़ गया। बहुत से हकीमों ने उसका इलाज किया, लेकिन उसे कोई लाभ नहीं हुआ। 

एक दिन दोबन हकीम दरबार में आया। वह बहुत बुद्धिमान था और कई बोलियां जानता था। राजा की जांच करने के बाद उसने कहा कि उन्हें कोई भी दवा खाने या लगाने की जरूरत नहीं है। वह उन्हें यूं ही ठीक कर देगा। यह जानकर राजा को बहुत खुशी हुई। उसने कहा कि अगर वह ठीक हो गया, तो वह हकीम को मालामाल कर देगा। 

हकीम ने एक मूसल ली। फिर उसने उसे खोखला किया और उसकी मूठ में बहुत-सी दवाइयां और जड़ी-बूटियां भर दीं। इसी तरह उसने दवाओं से भरी एक गेंद भी तैयार की। 

हकीम को सामान लाकर देने वाले नौकर भी नहीं समझ पा रहे थे कि वह क्या करना चाहता था। वे सभी मुंह छिपाकर हंस रहे थे। लेकिन राजा का हुक्म था, इसलिए वे हकीम की किसी बात को टाल भी नहीं सकते थे। 

अगले दिन हकीम राजा के पास गया और उन्हें दोनों चीजें देकर बोला, “आप पसीना आने तक इनके साथ खेलें। फिर नहाकर सो जाएं।” 

Hindi story for kids

राजा ने ऐसा ही किया। अगले दिन उसकी बीमारी ठीक हो गई। उसने दोबन हकीम की बहुत तारीफ की। उसे सुंदर चोगे और सोने के सिक्के इनाम में दिए। राजा रोजाना उसे शाही दावत में बुलाता और बहुत से उपहारों के साथ विदा करता। 

राजा और दोबन का प्यार देखकर कुछ दरबारी जलने लगे। उन्होंने राजा को सिखा दिया कि दोबन उन्हें मारना चाहता है। यह सुनकर राजा को इतना गुस्सा आया कि उसने उसे फांसी की सजा सुना दी।

दोबन ने मरने से पहले राजा को एक किताब दी और कहा कि वह उसकी जान लेने के बाद उस किताब को जरूर पढ़ें। फिर दोबन को फांसी दे दी गई। राजा ने दोबन की किताब के पन्ने पलटे। 

राजा ने सोचा कि हकीम ने उसमें नुस्खे दिए होंगे। लेकिन ऐसा नहीं था। उस किताब के पन्नों पर जहर लगा था। ज्यों ही उसने पन्ना पलटने के लिए अपनी उंगली को मुंह से गीला किया, वह उस जहर से मर गया। 

राजा ने अपने प्यारे दोस्त दोबन के साथ बुरा किया था, अतः उसके लिए यही सजा उचित थी। 

काले टापू का राजा

बहुत समय पहले की बात है। एक सुलतान को अपने सफर के दौरान एक सुंदर झील दिखाई दी। वह पहाड़ियों के बीच काले संगमरमर की तरह चमक रही थी। उस झील के किनारे एक सुंदर महल था। लेकिन जब वह उसमें गया, तो वहां कोई नहीं दिखाई दिया। 

Hindi story for kids

तभी सुलतान ने सुना कि कोई व्यक्ति अपनी किस्मत को कोसते हुए मरने के बारे में कह रहा था। जब सुलतान उस आवाज का पीछा करते हुए आगे बढ़ा, तो एक युवक को सिंहासन पर बैठा पाया। वह युवक उठ नहीं सकता था, क्योंकि उसकी कमर से नीचे का हिस्सा काले संगमरमर में बदल गया था। सुलतान ने हैरानी से पूछा कि उसका यह हाल किसने किया। तब वह युवक सुलतान को अपनी कहानी सुनाने लगा-वह युवक काले टापू का राजा था। उसने एक सुंदर लड़की से शादी की। शादी के बाद उसे पता चला कि वह एक जादूगरनी थी। वह उससे प्यार नहीं करती थी।

एक दिन राजा ने रानी के सबसे प्यारे नौकर को किसी बात के लिए ऐसी सजा दी कि वह अधमरा हो गया। यह देखकर रानी को गुस्सा आ गया। उसने उसी समय राजा को आधा इन्सान और आधा पत्थर में बदल दिया। रानी ने राजा के महल को एक झील बना दिया और वह उसमें अपना महल बनाकर अपने नौकर के साथ रहने लगी। वह उस महल में रहकर अपने जादू करती रहती थी। 

उस जादूगरनी रानी ने शहर के सभी लोगों को मछलियों में बदल दिया और सारे टापुओं को पहाड़ बना दिया। रानी राजा को कोड़ों से मारती थी और वह कुछ नहीं कर पाता था। रानी किसी भी हालत में अपने अधमरे नौकर को जिंदा करना चाहती थी। 

सुलतान ने फैसला किया कि वह काले टापू के राजा की मदद करेगा। उसने जादूगरनी रानी के अधमरे नौकर को मार डाला और उसकी जगह खुद को चादर से ढककर लेट गया। रानी नौकर के पास गई और उसका हाल-चाल पूछने लगी। 

सुलतान ने कहा कि पहले राजा को आजाद करना होगा। रानी ने सोचा कि नौकर ठीक हो गया है, तभी तो उसके बोलने की आवाज आ रही है। उसने राजा को ठीक कर दिया। इसके बाद सुलतान ने अपने मुंह से चादर हटाए बिना कहा कि वह सारे राज्य को पहले जैसा कर दे। 

Hindi story for kids

ज्यों ही दुष्ट रानी ने ऐसा किया, सुलतान ने उसकी जान ले ली। राजा ने सुलतान को बहुत-बहुत धन्यवाद दिया और उसकी बहादुरी की काफी तारीफ की। इसके बाद सुलतान, राजा को अपने साथ अपने महल में ले गया और यह ऐलान कर दिया कि वही उसके राज्य का अगला राजा होगा। 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

six + six =