वैश्वीकरण में कम्प्यूटर की भूमिका पर निबंध |Essay on the role of computers in globalization

वैश्वीकरण में कम्प्यूटर की भूमिका पर निबंध |

वैश्वीकरण में कम्प्यूटर की भूमिका पर निबंध |Essay on the role of computers in globalization

आज का युग सूचना प्रौद्योगिकी व तकनीकी का युग है और इस संचार क्रान्ति का कारण है, कम्प्यूटर व नेट. आज संचार के क्षेत्र में कम्प्यूटर ने एक नई क्रान्ति का सृजन किया है, जिसने सामाजिक, आर्थिक, शैक्षिक, राजनीतिक, व्यावसायिक आदि सभी क्षेत्रों को प्रभावित किया है. आज कम्प्यूटर व नेट हमारी जिन्दगी का हिस्सा बन गए हैं. आज हमारे बैंक कम्प्यूटराइज्ड हो गए हैं. हमारी लाइब्रेरियों में कम्प्यूटर आ गया है. चाहे खेल का मैदान हो या शिक्षा का या फिर हमारी आर्थिक गतिविधियाँ. सभी जगह कम्प्यूटर महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है.

वैश्वीकरण का अर्थ 

वैश्वीकरण का सामान्य अर्थ है विश्व का एकीकरण. आज का युग ग्लोबलाइजेशन का युग है. विश्व में एक छोटी-सी जगह पर हुई घटना भी पूरे विश्व पर प्रभाव डालती है. आप शेयर बाजार को ही लें, कि किस प्रकार मन्दी पूरे विश्व बाजार को प्रभावित करती है. वैश्वीकरण के युग में हम कई चीजों के लिए दूसरों पर निर्भर रहते हैं चाहे हमारा आयात-निर्यात हो या फिर अन्य कोई मसला. इस युग में विकास के लिए हमें दूसरे देशों की सहायता लेनी ही पड़ती है और वैश्वीकरण के इस युग में कम्प्यूटर एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है चाहे वह शिक्षा का क्षेत्र हो या फिर आर्थिक क्षेत्र या फिर हमारे राजनीतिक सम्बन्ध और महत्वपूर्ण मसले. हम निम्नलिखित शीर्षकों के अन्तर्गत कम्प्यूटर की भूमिका का वर्णन कर सकते हैं.

शिक्षा के वैश्वीकरण में कम्प्यूटर की भूमिका 

शिक्षा के क्षेत्र में आज महत्वपूर्ण परिवर्तन हो रहा है. हमारे विद्यार्थी बाहर के विद्यालयों में जा रहे हैं. विदेशी यूनिवर्सिटियों में पढ़ रहे हैं. वहाँ रिसर्च कर रहे हैं. वहाँ से डिग्री हासिल कर रहे हैं. साथ ही बाहर के देशों से विद्यार्थी हमारे यहाँ पढ़ने भी आ रहे हैं हिन्दी सीखने भी आ रहे हैं योग और अध्यात्म पर रिसर्च भी कर रहे हैं. यह सब सम्भव हुआ है, संचार क्रान्ति के कारण. संचार क्रान्ति में महत्वपूर्ण कम्प्यूटर की इस दिशा में महत्वपूर्ण भूमिका है. शिक्षा के क्षेत्र में आज वेब पर बेहिसाब शैक्षिक सामग्री व ज्ञान उपलब्ध है. सभी विषयों के ऐन्साइक्लोपीडिया, सभी देशों के एटलस, मानचित्र, संस्कृति, इतिहास, साहित्य जो भी आप जानना चाहते हैं, उसके बारे में तमाम सूचनाएं इंटरनेट पर उपलब्ध हैं. विकसित देशों में तो अनेक शैक्षिक संस्थान अपनी नियमित शैक्षिक गतिविधियों को पूरा करने के लिए नेट का इस्तेमाल करने लगे हैं. आज हाईटैक जमाना है. साइबर स्पेस के जरिए आप घर बैठे कहीं पर चल रही क्लास को अटैण्ड कर सकते हैं. परीक्षा दे सकते हैं. डिग्री हासिल कर सकते हैं. लैपटाप कम्प्यूटर के जरिए आप किसी विशेष स्थान पर शारीरिक रूप से उपस्थित न रहते हुए भी विद्वत्-चर्चा में भाग ले सकते हैं. भारत में भी इग्नू, पिलानी और आईआईटी (दिल्ली-कानपुर) जैसे संस्थानों ने इंटरनेट आधारित शैक्षिक कार्यक्रम शुरू कर दिए हैं, जिन्हें आप कम्प्यूटर की सहायता से देख सकते हैं. 

सिर्फ इतना ही नहीं आज शिक्षा का वैश्वीकरण कम्प्यूटर के द्वारा हो रहा है. आप नेट पर बैठकर देश-विदेश से सम्बन्धित जानकारियाँ प्राप्त कर सकते हैं. वहाँ की शिक्षा की स्थिति के बारे में जानकारी हासिल कर सकते हैं व कम्प्यूटर के द्वारा ही बाहर जाने के लिए आयोजित होने वाली परीक्षाएं दे सकते हैं. आजकल तो विद्यार्थियों के परीक्षाफल रिजल्ट सब नेट पर उपलब्ध हो रहे हैं. अतः शिक्षा के क्षेत्र में कम्प्यूटर एक संचार सेतु का कार्य कर रहा है. पूरे विश्व की शिक्षा को जोड़ने का.

आर्थिक जीवन में कम्प्यूटर की भूमिका 

आज वैश्वीकरण के इस युग में पूरा विश्व एक बाजार के रूप में तब्दील हो गया है. हमारे आम बाहर भेजे जा रहे हैं, तो बाहर से खाने-पीने की चीजें, इलेक्ट्रॉनिक सामान हमारे यहाँ आ रहा है. चाइना के सामान से आज हमारा मार्केट भरा पड़ा है. आज हम इंडिया में रहते हुए कहीं भी बाहर का सामान खरीद सकते हैं. कारण यह है कि आज संचार क्रान्ति व आयात-निर्यात ने हमें यह सुविधा दी है. आज उद्योग भी आप घर बैठे कम्प्यूटर के माध्यम से कर सकते हैं. विभिन्न कम्पनियों के इन्ट्रानेट आपस में जोड़े जा सकते हैं. इन नेटवर्कों को एक्स्ट्रानेट कहते हैं. इसके जरिए एक से दूसरी कम्पनी के मध्य तमाम जानकारियों का आदान-प्रदान होता है. इंटरनेट न केवल माल-आपूर्तिकर्ता वरन् उत्पादक, खरीद, विपणन और वित्तीय विभागों तथा ग्राहक से सीधा सम्पर्क सम्भव बना देता है. आजकल ई-कॉमर्स का जमाना है. ई-कॉमर्स उपभोक्ता बाजार की एक नई कार्य-प्रणाली है जिसके अन्तर्गत इंटरनेट पर वस्तुओं का क्रय विक्रय किया जाता है.

ई कॉमर्स की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि इसके माध्यम से छोटे-से-छोटा व्यापार भी विश्व के दूसरे छोर पर बैठे व्यक्ति के साथ कम व्यय तथा बिना किसी बिचौलिए के किया जा सकता है. थोक व्यापार तथा खुदरा व्यापार दोनों ही रूपों में ई-कॉमर्स का विकास हो रहा है. ई-कॉमर्स के साथ ही पी कॉमर्स का भी विकास हो रहा है. इसका अर्थ है पाइप लाइन कॉमर्स, क्योंकि इसमें एक पाइपलाइन यानी केवल या सैटेलाइट के माध्यम से घरेलू उत्पादों का इंटरनेट से सम्पर्क बनता है. उदाहरणस्वरूप टेलीविजन पर अपना मनपसन्द कार्यक्रम देखते-देखते आप किसी चीज का आर्डर कर सकते हैं. इसके लिए टीवी सेटों पर ‘सेटअप बॉक्स’ लगाना पड़ता है. कहने का तात्पर्य यह है कि आज कम्प्यूटर ने इंटरनेशनल मार्केट आप के लिए खोल दिए हैं. आप घर बैठे ही विंडो शॉपिंग के जरिए किसी भी शहर में स्थित सुपरमार्केट, दुकान, श्रृंखला या बाजार के वेब पृष्ठों पर जाकर खरीददारी कर सकते हैं. ई-कॉमर्स व ई-करेंसी प्रौद्योगिकियों के जरिए समस्त व्यावसायिक गतिविधियाँ सम्पन्न कर सकते हैं. वीडियो कान्फ्रेन्स कर सकते हैं.

चिकित्सा सुविधाओं में कम्प्यूटर की भूमिका 

आज दूर बैठे विशेषज्ञ से रोगी इंटरनेट के जरिए किसी भी समय परामर्श ले सकता है. ऑपरेशन के लिए सलाह कर सकता है. इसी प्रकार दवाओं का वितरण भी किया जा सकता है. आज बड़े-बड़े जटिल ऑपरेशन कम्प्यूटर की सहायता से किए जा रहे हैं. आज किस अस्पताल में किस रोग से सम्बन्धित स्पेशलिस्ट है. ऑपरेशन के लिए कितना खर्चा आएगा. यह सब विवरण कम्प्यूटर पर उपलब्ध हैं. यही कारण है कि आज भारत के बड़े अस्पतालों में प्लास्टिक सर्जरी या बाई-पास सर्जरी आदि जैसे रोगों का इलाज कराने विदेशों से भी लोग आ रहे हैं या भारत से बाहर भी लोग इलाज कराने जाते हैं. यह सब सम्भव किया है संचार क्रान्ति ने यह संचार क्रान्ति ही है जिसने रामदेव के योग को पूरे विश्व में ख्याति दिला दी है. भारत के आयुर्वेद या फिर से उत्थान हो रहा है. कम्प्यूटर 

की सहायता से आज जटिल ऑपरेशनों को भी किया जा रहा है. साथ ही उच्चस्तरीय शोधों में भी कम्प्यूटर का उपयोग किया जा रहा है.

मनोरंजन के क्षेत्र में कम्प्यूटर की भूमिका 

मनोरंजन के क्षेत्र में तो कम्प्यूटर ने क्रान्ति कर दी है. आज सीडी का जमाना है. नई-नई ऐनिमेशन फिल्में जय हनुमान, मोगली, जय कृष्ण, जय भीम आदि ने बच्चों को स्वस्थ मनोरंजन दिया है. नए-नए वीडियो गेम मार्केट में आ गए हैं. आप वीडियो आन डिमांड नामक नई प्रणाली के जरिए टेलिविजन पर अपनी मनचाही फिल्म देख सकते हैं. 

आप फिल्म की कहानी बदल सकते हैं, घटनाओं का क्रम बदल सकते हैं. यानी घर बैठे फिल्म निर्देशक की भूमिका निभा सकते हैं. सीडी रोम डिस्क से आप कुछ खेल-खेल सकते हैं. जैसे कार दौड़ में हिस्सा लेना. अपनी तोप से टैंकों के परखच्चे उडाना आदि. वर्चुअल खेलों का भी आप आनन्द ले सकते है. मसलन क्रिकेट खेल सकते है, 

कितना आसान है आज एक-दूसरे से बात करना. इंटरनेट ब्राउजर ज्ञात व अज्ञात मित्रों के साथ चर्चा की सुविधा प्रदान करता है जिसके माध्यम से आप परस्पर मनोरंजन कर सकते हैं. ई-मेल के जरिए तस्वीरें, संगीत, वीडियो फिल्में, पत्र अपने मित्रों को भेज सकते हैं. यदि कम्प्यूटर से सीसीडी कैमरा जुड़ा है तो आप अपना चित्र भेज सकते हैं व तत्काल अपने मित्र के साथ वीडियो कान्फ्रेंसिंग कर सकते हैं.

सामाजिक जीवन में कम्प्यूटर की भूमिका

आज कम्प्यूटर हमारे समाज का अभिन्न अंग बन गया है. रेलवे टिकट की बुकिंग हो या एयर टिकट की. कम्प्यूटर ने यह सब आसान बना दिया है. खेतों की भूमि के रिकॉर्ड रखने हों या फिर रोजगार ढूँढना हो. नेट पर जाइए और पाइए. सरकार ने कर्नाटक राज्य में भूमि रिकार्डों के लिए ‘भूमि’ परियोजना लागू की है. सामाजिक जीवन में आज हमारे पोस्ट ऑफिस कम्प्यूटरीकृत हो गए हैं. हमारे बैंक कम्प्यूटरीकृत हो गए है तथा हमारी सरकार द्वारा भी डिस्क, दृष्टि, ईकोप्स, अक्षय, ई-चौपाल, फ्रेंडस, ई-शृंखला आदि अनेक योजनाएं विभिन्न राज्यों में लोगों को दी जा रही हैं, ताकि हमारे किसानों को फायदा हो सके. हमारे समाज के विभिन्न वर्गों में चेतना व जागरूकता आ सके. अतः कम्प्यूटर ने आज हमारे गाँवों को हमारे शहरों को जोड़ दिया है. आज संचार क्रान्ति की मोबाइल क्रान्ति ने हमारे जनमानस को एक-दूसरे के करीब ला दिया है. आज कम्प्यूटर की सहायता से हमारे काम आसान हो गए हैं. चाहे सर्वे का विश्लेषण हो या रिजल्ट का निकलना. आज सभी काम कम्प्यूटर कर रहा है. इंटरनेट ने सिर्फ घरों में घुसपैठ ही नहीं की, बल्कि अब तो वह पूरे घर का संचालन भी कर सकता है.

ब्रिटेन में अब ऐसे इंटरनेट घर बनने लगे हैं. इन मकानों को लेइंग होम्स नाम की कम्पनी बना रही है और उसने कुछ मॉडल हाउस बना लिए हैं. यह मकान लंदन के उत्तरी इलाके में बसे शहर से बाहर बनाए जा रहे हैं. इन मकानों में 72 डाटा, बैंक, उच्च गति वाले इंटरनेट कनेक्शन चार निजी कम्प्यूटर और दो अत्याधुनिक सपाट स्क्रीन वाले टेलीविजन लगे होंगे. यह सब आपस में एक-दूसरे से जुड़े होंगे. इन यंत्रों की मदद से आप जलते गैस चूल्हे को नियन्त्रित कर सकेंगे तो खिड़की व दरवाजे के साथ-साथ उनके पर्दे भी बंद कर सकेंगे इतना ही नहीं घर के बाहर भी जब कहीं सफर पर हों तो लैपटाप के जरिए ये सब कार्य कर सकेंगे. 

More from my site

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

one + eighteen =