चार्ल्स वीटस्टोन की जीवनी | Biography of Sir Charles Wheatstone in Hindi

Biography of Sir Charles Wheatstone in Hindi

चार्ल्स वीटस्टोन की जीवनी | Biography of Sir Charles Wheatstone in Hindi

विद्युत टेलीग्राफ के विकासकर्ता सर चार्ल्स ह्वीटस्टोन का जन्म सन् 1802 ई० को इंग्लैंड में हुआ था। उन्होंने मूल रूप से भौतिक विज्ञान में शिक्षा प्राप्त की थी। आरंभ में उनकी रुचि वाद्ययंत्रों में थी। सर चार्ल्स ने सन् 1829 ई० में कन्सलटिना का आविष्कार किया। कुछ ही दिनों में उनकी रुचि ध्वनि के संचरण में हो गई। वे बस यही सोचते रहते थे कि ध्वनि को एक स्थान से दूसरे स्थान तक कैसे भेजा जा सकता है। उन्होंने ध्वनि संचार की समस्या पर अमेरिकी भौतिक शास्त्री जोसफ हेनरी के साथ विचार-विमर्श किया । हेनरी ने सर चार्ल्स को अपने देश के प्रसिद्ध वैज्ञानिक सेमुअल मोर्स से मिलने की सलाह दी।

बाद में सर चार्ल्स ने विद्युत विशेषज्ञ सर विलियम कुक के साथ कार्य किया और सन् 1837ई० में इन दोनों ने प्रथम प्रयोगात्मक टेलीग्राफ का पेटेंट लिया। यह टेलीग्राफ मोर्स के टेलीग्राफ से काफी मिलता-जुलता था। इसी से उन्होंने संदेश का सफल परीक्षण किया। 

सर चार्ल्स ने प्रतिरोध मापने के लिए कई प्रक्रम बनाए जो आज हीट स्टोन ब्रिज के नाम से प्रसिद्ध हैं। ये ब्रिज बारहवीं कक्षा से लेकर उच्च कक्षाओं तक विज्ञान के विद्यार्थियों द्वारा प्रयोग किए जाते हैं। ह्वीट स्टोन ब्रिज का सिद्धांत बच्चों को विद्युत अध्ययन में पढ़ाया जाता है। यह सिद्धांत बहुत ही प्रसिद्ध है। ह्वीट स्टोन ब्रिज के सिद्धान्त पर बहुत सारे यंत्र बनाए गए हैं। 

विज्ञान के इस महान् पुरुष की सन् 1875 ई० में मृत्यु हो गई। उनका पूरा जीवन विद्युत के प्रयोगों में बीत गया । मोर्स और हीटस्टोन के टेलीग्राफ के क्षेत्र में दिये गये योगदानों के फलस्वरूप ही इस क्षेत्र की उन्नति हो पाई और एक स्थान से दूसरे स्थान तक सन्देश भेजना सफल हो गया।

आज के युग में टेलीग्राफ हमारे जीवन का अत्यंत महत्त्वपूर्ण अंग बन गया है। टेलीग्राफ के द्वारा हम कहीं पर भी कोई संदेश भेज सकते हैं। वास्तव में टेलीग्राफ का आविष्कार मोर्स ने किया था। लेकिन ह्वीटस्टोन ने टेलीग्राफ का विकास किया। उन्होंने प्रथम विद्युत चालित टेलीग्राफ बनाया था।

More from my site

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fourteen + fourteen =