जोहानेस गुटनबर्ग की जीवनी |Biography of Johannes Gutenberg in Hindi

जोहानेस गुटनबर्ग की जीवनी

जोहानेस गुटनबर्ग की जीवनी |Biography of Johannes Gutenberg in Hindi

मुद्रण प्रैस के आविष्कारक जुहान गुटन बर्ग का पूरा नाम जोहांस जेन्सफ्लीच जुर लादेन जुम गुटेनबर्ग था। इस लम्बे नाम के बजाय लोग उन्हें जुहान गुटेनबर्ग के नाम से पुकारने और जानने लगे। जुहान गुटेनबर्ग का जन्म सन् 1397 ई० में जर्मनी में हुआ था। सन् 1450 ई० तक पुस्तक लिखने का कार्य हाथों के माध्यम से होता था, जो कि बहुत कष्टदायक था और साथ ही अधिक समय वाला होता था। उस समय कोई छापाखाना नहीं था अर्थात् प्रिंटिंग प्रेस का आविष्कार तब तक नहीं हुआ था। 

सन् 1450 ई० में जुम गुटेनबर्ग ने प्रिंटिंग प्रैस को आविष्कृत किया, जिसने सारी दुनिया में तहलका मचा दिया। संचार व्यवस्था में प्रिंटिंग प्रैल के आविष्कार से एक नई क्रान्ति आई। प्रिटिंग प्रैस के आविष्कार से ज्ञान का पुस्तकों के रूप में भण्डार करना सरल हो गया और पुस्तकों, अखबारों, पत्रिकाओं आदि को जन-जन तक पहुंचाना सम्भव हो गया। प्रिटिंग में पहले भी लोगों ने काम किया था लेकिन वास्तविक सफलता गुटेनबर्ग को मिली। उन्होंने सबसे पहली पुस्तक लैटिन ग्रामर को छापा था, जो मेन्ज, जर्मनी में छापी गई थी। 

जर्मनी में जन्मे गुटेनबर्ग ने प्रिंटिंग कला को विकसित करने के लिए काफी काम किया। उनकी सबसे प्रथम और बड़ी पुस्तक 1282 पृष्ठों की बाइबल थी। उसका नाम गुटेनबर्ग ने बाइबल रखा था। उनकी 300 प्रतियां छापी गईं थीं। आज की दुनिया में उसकी 21 प्रतियां शेष हैं, जिनमें 42 पक्तियां प्रति कालम में होती हैं। मुद्रण प्रैस के आविष्कार में गुटेनबर्ग को कोई धन की प्राप्ति नहीं हुई तथा न ही वह धनी हो पाए। बल्कि अपने एक हिस्सेदार के वह कर्जदार थे और उस कर्ज को चुकाने के लिए उनके छापेखाने को हिस्सेदार ने ले लिया था। 

सन् 1468 ई० में उनका निधन हो गया। यद्यपि आज की दुनिया का महान् आविष्कार प्रिंटिंग प्रैस को गुटेनबर्ग ने खोजा लेकिन वह कभी इस आविष्कार के द्वारा फल-फूल नहीं पाए। आने वाली सदियां भी इस महान् आविष्कार को कभी भी भूल नहीं पाएंगी। गुटेनबर्ग का आविष्कार आज छापेखाने के रूप में विश्व की सेवा कर रहा है। हर प्रकार की छपाई के लिए दुनिया में आज छोटे से लेकर बड़े तक लाखों छापेखाने काम कर रहे हैं। आज रोजाना न जाने कितनी पुस्तकें छपती हैं और न जाने कितने समाचार-पत्र और पत्रिकाएं छपकर प्रकाशित होती हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

five × three =