रक्तदान करने के फायदे और नुकसान | खून देने के फायदे और नुकसान

रक्तदान करने के फायदे और नुकसान | खून देने के फायदे और नुकसान |रक्तदान करने से कमजोरी आती है? 

ब्लड डोनेट करने के फायदे – Blood Donate Karne ke Fayde in Hindi-ग़लतफ़हमी का आधार

जब कभी किसी व्यक्ति को रक्त की जरूरत पड़ती है, तो उसके अनेक रिश्तेदार, मित्र एवं परिचित इस भय से कि कहीं उन्हें रक्तदान न करना पड़े, अकसर वहां से चुपके से चले जाते हैं। इसका कारण यह है कि आम लोगों के मन में यह ग़लतफ़हमी है कि रक्तदान करने से शरीर में कमजोरी आती है, जो लंबे समय तक महसूस होती है।

वास्तविकता-ब्लड डोनेट के फायदे

वास्तविकता यह है कि रक्तदान करना एक हानि रहित प्रक्रिया है, जिसमें कोई दर्द नहीं होता और न किसी प्रकार की कमजोरी आती है। रक्तदान में मात्र 4 या 5 मिनट का समय लगता है। आधे घंटे के विश्राम के बाद रक्तदाता सामान्य दिनचर्या जारी रख सकता है। सामान्य खुराक लेते रहने से दिए गए रक्त की पूर्ति कुछ ही दिनों में हो जाती है। वैसे शरीर में रक्तदान के तत्काल बाद दान किए गए रक्त की प्रतिपूर्ति करने की प्रक्रिया प्रारंभ हो जाती है।

रक्त का विकल्प नहीं-क्या रक्तदान करने के बाद कमजोरी महसूस होती है

रक्तदान के लिए किसी व्यक्ति को बाध्य नहीं किया जा सकता। इसीलिए लोगों से स्वेच्छा से रक्तदान करने की अपील की जाती है। मानव रक्त का कोई विकल्प नहीं है। यह कोई औषधि नहीं है, जिसे किसी प्रयोगशाला या कारखाने में बनाया जा सके अथवा बाजार से खरीदी जा सके। जानवरों का रक्त भी मनुष्य के काम में नहीं आता।

रक्त का निर्माण और कार्य

रक्त हमारे शरीर की अस्थिमज्जा, लीवर और तिल्ली में बनता है। यह शरीर के भिन्न-भिन्न अवयवों को पोषण आदि की दृष्टि से और एक दूसरे से संपर्क बनाए रखने वाला प्रधान वाहक है। इसी के माध्यम से सारे शरीर में ऑक्सीजन और पोषक तत्व पहुंचते हैं। शरीर में जो तापमान विद्यमान होता है, वह रक्त प्रवाह के कारण उत्पन्न होने वाली ऊष्मा का ही परिणाम है। अतः रक्त के माध्यम से सारे शरीर की गतिविधियां प्रभावित होती हैं। आमतौर पर एक स्वस्थ व्यक्ति के शरीर में 4 से 5 लीटर रक्त होता है। रक्तदान में एक बार में 250 से 350 मिलीलीटर ही रक्त लिया जाता है। जो शरीर में उपलब्ध रक्त का लगभग 15वां भाग होता है। कोई भी व्यक्ति 3 माह के अंतराल से रक्तदान कर सकता है। ऐसे अनेक व्यक्ति मिल जाएंगे जिन्होंने अपने जीवन में 100 से भी अधिक बार रक्तदान किया हो।

रक्तदान की आवश्यकता 

शरीर में रक्त देने की जरूरत प्रायः निम्नलिखित स्थितियों में पड़ती है आकस्मिक दुर्घटना में जब शरीर से अधिक मात्रा में रक्तस्राव हो चुका हो, गर्भपात, प्रसव के बाद, मासिक धर्म के दौरान, आमाशय व आंतों के अल्सर रोग में, हीमोफिलिया में, आपरेशन में जब अधिक रक्तस्राव हो चुका हो, स्तब्धता (शॉक) और निपात (कोलेप्स) की मरणासन्न अवस्था में, ऑपरेशन के पहले जब रक्त में हीमोग्लोबिन और लाल रक्त कण 40 प्रतिशत से कम संख्या में रह गए हों, रक्तगत तीव्र संक्रमण में, उग्र रूप से जल जाने पर विषाक्त रक्त को बदलने, आर.एच. निगेटिव माताओं के शिशुओं की जीवन रक्षा के लिए तथा रोगी के घातक रक्ताल्पता से पीड़ित होने पर।

रक्तदान में सावधानियां

रक्तदान करने वाले व्यक्ति की उम्र 18 वर्ष से कम और 60 वर्ष से अधिक तथा वजन 45 किलो से कम नहीं होना चाहिए। उसे क्षय, मलेरिया, सिफलिस, गोनोरिया, एड्स, दमा और अन्य संक्रामक रोगों से पूर्णतया मुक्त होना चाहिए। एक बार रक्तदान करने के बाद तीन माह बाद ही दूसरी बार रक्तदान करना चाहिए। रक्तदान के बाद चाय, कॉफी, फलों का रस, दूध, अंडा सेवन कर कुछ समय आराम करना चाहिए। रक्तदान गर्भावस्था के दौरान, रक्त की कमी (एनीमिया), हेपैटाइटिस बी व सी, गुप्त रोगों से पीड़ित होने, नॉरकोटिक दवाओं के आदी होने पर नहीं करना चाहिए। 4-6°C के तापमान पर रखे रक्त का उपयोग 35 दिन में कर लेना जरूरी होता है। 

रक्तदान के लाभ-रक्तदान करने के फायदे  

अमरीकी शोधकर्ताओं के मतानुसार रक्तदान करने से दिल के दौरे की आशंका कम हो जाती है। दिल की अन्य बीमारियों के होने की संभावना भी कम होती है। डॉ. डेविस मेयस के अध्ययन से यह तथ्य भी प्रकाश में आया है कि रक्तदान करने वालों से रक्तदान न करने वालों को दिल के दौरे की दोगुनी आशंका रहती है। अतः आप मौका पड़ने पर या यूं ही स्वेच्छा से रक्तदान करने में संकोच न करें। आपके रक्त की एक एक बूंद अमूल्य है, जो किसी के जीवन को बचा सकती है। स्वस्थ व्यक्ति द्वारा रक्तदान करने पर कोई नुकसान नहीं होता, अपितु शरीर में खून की कमी को पूरा करने के लिए मस्तिष्क ‘रक्त’ उत्पादक अंगों को और अधिक सक्रिय कर देता है, जिससे इन अंगों की क्रियाशीलता बढ़ जाती है और ये स्वस्थ बने रहते हैं। अतः स्वस्थ व्यक्ति को रक्तदान करना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seventeen + eleven =