थ्री-पिन का एक सिरा बड़ा क्यों होता है

थ्री-पिन का एक सिरा बड़ा क्यों होता है

सामान्य ज्ञान- थ्री-पिन का एक सिरा बड़ा क्यों होता है 

 यदि आप अपने घरों में थ्री-पिन के बिजली के प्लग को गौर से देखें तो पाएंगे कि इसकी अर्थिंग पिन अन्य दो पिनों की अपेक्षा बड़ी होती है। अर्थ वायर इस उपकरण (प्लग) की मेटल बॉडी से शुरू होकर जमीन (अर्थ) में समाप्त होती है, इसलिए इस वायर को कभी भी लाइव वायर के संपर्क में नहीं आना चाहिए। यदि गलती से अर्थ पिन लाइव सॉकेट के संपर्क में आ जाए तो व्यक्ति द्वारा प्लग को छूने पर बिजली का झटका लग सकता है।

चूंकि अर्थिंग पिन का व्यास अन्य दो पिनों की अपेक्षा अधिक मोटा होता है, अतः यह पिन अपेक्षाकृत मोटी होती है। यह पिन लाइव या न्यूट्रल सॉकेट्स में कभी भी प्रवेश नहीं कर सकती, इसलिए प्लग सिर्फ सही इलेक्ट्रिीकल स्थिति में ही लगाया जा सकता है। 

अर्थ पिन अन्य दो पिनों की अपेक्षा लंबी बनाई जाती है। इससे यह अर्थ टर्मिनल से अन्य पिनों (लाइव एवं न्यूट्रल) के अपने सॉकेट्स से संपर्क में आने से पहले जुड़ती है। इससे व्यक्ति की सुरक्षा सुनिश्चित होती है।

यदि ढीले कनेक्शन, कमजोर इंसुलेशन या बिजली लीक होने के कारण प्लग लगाते ही शॉर्ट सर्किट हो जाता है, तो करंट प्लग से होते हुए व्यक्ति को नुकसान पहुंचाए बगैर जमीन की तरफ प्रवाहित हो जाता है, अतः अर्थिंग के लिए मोटा उच्च टेंशन वाला वायर लगाना ही समझदारी का काम है। अर्थिंग पिन अन्य दो पिनों से न सिर्फ बड़ी, बल्कि अपेक्षाकृत लंबी भी होती है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

three × 2 =